Kranti Sutra by Osho Hindi Book Download | क्रांति सूत्र- ओशो मुफ्त हिंदी पुस्तक | Free Hindi Books

By | July 24, 2018

Kranti Sutra by Osho Hindi Book Download | क्रांति सूत्र- ओशो मुफ्त हिंदी पुस्तक :

Author of Book / पुस्तक के लेखक : Osho / ओशो
Name of Book / पुस्तक का नाम : Kranti Sutra by Osho / क्रांति सूत्र
Size of Ebook / पुस्तक का आकर : 735 kb
Language of Book / पुस्तक की भाषा : Hindi / हिंदी
Total pages of ebook : 113
Ebook Status  : Best

(कृपया कमेंट के माध्यम से पुस्तक के डाउनलोड नहीं होने की स्थिति से अवगत कराते रहें ताकि हम उसको जल्द से जल्द आपके लिए फिर से उपलब्ध करवा सके)

(Comment below if you face any issue in downloading pdf file)

Aryo.in का प्रयास इन्टरनेट पर जगह जगह उपलब्ध हिंदी पुस्तकों को एक स्थान पर लाना है | इसलिए हमारा सहयोग करे और अपने सभी मित्रो को यहाँ उपलब्ध पुस्तकों के बारे में जानकारी दे ताकि वो भी इसका लाभ उठा सके ….

Aryo.in is trying to collect all hindi and english books here from internet. So cooperate us by sharing this website with your all friends, Through this your friends also can enjoy this collection of books.

पुस्तक का विवरण :

Description of Ebook:

समय में जो कुछ भी है वह हम सभी जानते हैं कि सभी मरण धर्मा है हमें मृत्यु की ही एक गति है उसके ही चरणों का वह मापन है जिसमें हम देखते हैं कि समय में दौड़ना मृत्यु होती है और सभी वही दौड़े चले आते हैं सभी को स्वर्ग मिट्ठू के मुंह में दौड़ते हुए देखता हूं और सोचता हूं और बोलता हूं कि ठहरो और सोचो आपके पैर आप को कहां लेकर जा रहे हैं आप उन्हें चला रहे हैं या आप पैरों के मुताबिक चल रहे हैं या फिर आपको पैर ही चला रहे हैं

To Be Continue:

प्रतिदिन ही कोई मृत्यु के मुंह में गिरता है और आप ऐसे खड़े रहते हैं जैसे या दुर्भाग्य उसे उस पर ही गिरेगा कि नहीं गिरेगा तो आप दर्शक बने रहते हैं इसी चीज को सोचने के लिए यदि आपके पास सत्य को देखने के लिए आंखें हैं तो आप उसमें मृत्यु को भी देखे उसमें मृत्यु भी दिखाई देते हैं और आपके साथ भी होने का बच्चों का होना तय है इसलिए वसुधा ही यह होता जा रहा है आप रोज रोज मर ही तो रहे हैं आपने यह कभी भी देखा नहीं है लेकिन इसे अपने जीवन समझ रखा है वह आपकी क्रमिक एक ऋतु समान है हम सब धीरे-धीरे मरते रहते हैं और मरते ही रहेंगे मरण कि यह प्रक्रिया इतनी धीमी और धीमी है कि

To Be Continue:

जब तक कि वह अपनी पूर्णता पूरे तरीके से नहीं पा लेती तब तक कुछ भी विचार की सूक्ष्म दृष्टि नहीं होती है. आप पैरों के मुताबिक चल रहे हैं या फिर आपको पैर ही चला रहे हैं. प्रतिदिन ही कोई मृत्यु के मुंह में गिरता है और आप ऐसे खड़े रहते हैं.. जैसे या दुर्भाग्य उसे उस पर ही गिरेगा कि नहीं गिरेगा तो आप दर्शक बने रहते हैं. इसी चीज को सोचने के लिए यदि आपके पास सत्य को देखने के लिए आंखें हैं. तो आप उसमें मृत्यु को भी देखे उसमें मृत्यु भी दिखाई देते हैं.

[otw_shortcode_button href=”http://oshodhara.org.in/admin/Bookthumb/Kranti_Sutra.pdf” size=”large” icon_type=”general foundicon-down-arrow” icon_position=”left” shape=”round” color_class=”otw-red” target=”_blank”]Download PDF[/otw_shortcode_button]

You can download pdf file from here, Just click on it and get this file on your drive to get ebook and comments below if its helpful for you..

Feel Free to contact if you get any problem regarding to download this book.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *