(Motivational Story In Hindi)

“दाल-रोटी”

Future Mrs. राधिका

My dear…9 दिन रह गए है तुम्हारी शादी को…कुछ ऐसा है, जो लगता है कि आज साझा किया जाये…गुलाबी रंग के सलवार सूट में आज तुम बहुत प्यारी लग रही हो, दुल्हन का रंग जो चढ़ने लगा है , यहीँ ख्वाहिश है कि हमेशा चढ़ा रहे।

Motivational Story In Hindi:

सुनने को मिलता होगा आजकल कि अब तो थोड़ी समझदार बन, बस कुछ दिन रह गए है , कर ले शैतानी, अपनी मनमानी , ऐसा ही बहुत कुछ ….कभी माँ कभी पापा प्यार दिखाते होंगे तो कभी भाई चिढ़ाता होगा,.. कल तुमसे बात हुई तो लगा की कुछ शंका है तुम्हारे मन में,जो की स्वाभाविक भी है, तो ये सबसे पहले तुम ये बात गांठ बांध लो कि तुम इन 9 दिनों के बाद बिलकुल परायी नही होने वाली हो, ये घर तुम्हारा था और हमेशा तुम्हारा रहेगा, बस है अब एक और घर मिलेगा तुम्हें, और एक हमसफर, जो हमेशा तुम्हारा साथ देगा और तुम्हें भी उसका साथ देना हैं।

राधिका, ये हमेशा ध्यान रखना कि तुम साथ फेरे लोगी , पर इसका मतलब ये नही होगा कि तुम्हारा genetic structure बदलेगा. या तुम्हे 24 की जगह 48 घण्टे मिलेंगे, या फिर तुम्हारे हाथ दो से बढ़के तीन हो जायेंगे, हमें शुरू से यही सिखाया गया है कि पति भगवान है, जो कि सच भी है, पर भगवन शिव के अर्धनारीश्वर रूप को याद रखना।

To Be Continue:

शुरू शुरू में अच्छा लगता है सब कुछ करना,क्योंकि लगता है कि सबका दिल जो जीतना होता है, और करे भी क्या, यही तो सुना है हमने
“पहली किरण जबसे दिखे,
भाभी मेरी तबसे जगे
सबका पूरा ध्यान रखे
वो शाम ढले आराम करें”
प्लीज़ my dear, ऐसा कुछ मत करना, क्योंकि जैसा मैंने कहा biologically, your strengths will remain same even after marriage. तो तुम्हें कोई जरूरत नहीं है 5 बजे उठने की, ख़बरदार.. कोशिश भी मत करना।

हाँ इतना जरूर कहना चाहूंगी, कि सासु जी को माँ बोलने से ज्यादा जरूरी हैं उन्हें अपनी माँ समझना, परिवार को जितना प्यार दोगी, वो दुगुना होकर मिलेगा. वैसे तुम कितनी समझदार हो ये तो देखा है मैंने, जो तुम आजकल आफिस खाना लेकर आती हो खुद बनाके उससे तो लगता है कि पेट के रास्ते सबके दिल में घर बना ही लोगी। और हाँ अपने अंदर के बच्चे को हमेशा जिन्दा रखना।

कहते है न की कुँआरी कन्या के सौ घर और सौ वर, पर dear, यहाँ जरूर बदलाव आएगा. अब तो monogamous होना पड़ेगा ठीक वैसे ही जैसे “डाकिये ने क्या किया सौ रूपये की घडी चुराई
अब तो जेल में जाना पड़ेगा जेल की रोटी खानी पड़ेगी”
अब तुम पूछोगी रोज रोज एक ही दाल,कैसे? तो my dear , दाल भले एक हो , कभी जीरे का तड़का देना कभी राई का, कभी लहसुन तो कभी अदरक, कभी दाल फ्राई तो कभी दाल मखनी, अब देखा दाल के भी कई रूप है. और हाँ, वो गर दाल रहे तो क्या तुम कभी रोटी बनना, कभी चावल,कभी इडली डोसा,इसी तरह नये नये favour देना अपनी जिंदगी की थाली को,

इन्ही शुभकामनाओ के साथ

नंदिनी

4 thoughts on “Story of A Girl | Daal Roti | दाल रोटी | Motivational Story In Hindi

  1. Amit says:

    Nice Story, M eagerly waiting for your next post,

    1. Khushbu says:

      Thanks amit Ji..post very soon

  2. Manish says:

    बहुत ताज़ा, बहुत उम्दा।
    शब्दों के नए अर्थ के साथ।
    राधिका/नंदिनी/खुश
    बहुत खूब।
    मेरी बधाई आप तक प्रेक्षित हो।
    लिखते रहो

    1. खुश says:

      धन्यवाद मनीष जी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Name *
Email *
Website

error: